हिन्दी
返回

लेख

首页

A+ A A-

返回

चीन में महिलाओं का राजनीतिक स्थान स्पष्ट रूप से उन्नत हुआ

2019-09-26 09:04:00

आंकड़ों के अनुसार पूरे चीन में 15 वर्ष से अधिक उम्र वाली महिलाओं में अशिक्षा दर नये चीन की स्थापना से पहले के 90 प्रतिशत से वर्ष 2017 के 7.3 प्रतिशत तक कम हो गयी। नौ वर्षीय अनिवार्य शिक्षा में लैंगिक भेद खत्म हो गया। चीनी राष्ट्रीय महिला संघ की अंशकालिक उपाध्यक्ष मंग मान ने कहा कि महिला अनपढ़ को खत्म करने के आधार पर चीन ने बच्चियों के बुनियादी शिक्षा पाने के अधिकार व मौके को सुनिश्चित करने पर बड़ा ध्यान दिया। उन के अनुसार,हमारे देश का बुनियादी कानून यानी संविधान, और अनिवार्य शिक्षा कानून के अनुसार बच्चियों को समानता से शिक्षा पाने का अधिकार प्राप्त है। महिला अधिकार संरक्षण कानून में भी स्पष्ट रूप से यह आग्रह किया गया है कि मां-बाप या अन्य अभिभावकों को उचित उम्र की बच्चियों के अनिवार्य शिक्षा पाने को सुनिश्चित करना होता है। वर्ष 2017 में चीन के स्कूलों में लड़कियों की नामांकन दर 99.9 प्रतिशत तक पहुंच गयी, जो लड़कों की तरह है। और एक उदाहरण के लिये अब उच्च शिक्षा में छात्राओं का अनुपात 52.5 प्रतिशत तक पहुंच गया, जो छात्रों से और अधिक है।

श्वेत पत्र में कहा गया कि पिछले 70 सालों में चीनी महिला कार्य चीनी कम्युनिस्ट पार्टी और देश के कार्य के साथ घनिष्ठ रूप से जुड़ा हुआ है। चीनी कम्युनिस्ट पार्टी के नेतृत्व में पीढ़ी दर पीढ़ी वाली महिलाओं ने चीन के निर्माण, सुधार और विकास में अहम योगदान दिया है। चीनी महिलाओं के स्थान में जमीन-आसमान का परिवर्तन आया है।

श्वेत पत्र में कहा गया कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की 18वीं राष्ट्रीय कांग्रेस (नवम्बर 2012) के बाद से लेकर अब तक शी चिनफिंग की नए युग में चीनी विशेषता वाले समाजवाद की विचारधारा के मार्गदर्शन पर चीनी महिलाएं विकास के रास्ते पर आगे बढ़ रही हैं। वे कानून के अनुसार लोकतांत्रिक अधिकार का प्रयोग करती हैं, समानता के साथ आर्थिक सामाजिक विकास में भाग लेती हैं और सुधार व खुलेपन के फलों का उपभोग करती हैं। इस दौरान चीनी महिला कार्य में ध्यानाकर्षक ऐतिहासिक उपलब्धियां प्राप्त हुईं।