हिन्दी
返回

लेख

首页

A+ A A-

返回

चीनी और ब्रिटिश विद्वानों के बीच चीन के रास्ते और “बेल्ट एंड रोड”की चर्चा

2019-10-15 15:39:00

प्रोफेसर चांग वेइवेइ व्याख्यान देते हुए

स्थानीय समयानुसार 14 अक्तूबर की रात को ब्रिटेन के ऑक्सफोर्ड ब्रूक्स विश्वविद्यालय में चीनी संस्कृति से जुड़ी एक खास कक्षा आयोजित हुई। शांगहाई में फ़ूतान विश्वविद्यालय के चीन अनुसंधान संस्थान के प्रमुख प्रोफेसर चांग वेइवेइ ने“सभ्य देशों की दृष्टि में चीन का रास्ता और‘बेल्ट एंड रोड’”शीर्षक व्याख्यान दिया, जिन्होंने व्यापक तौर पर चीन की विकसित विचारधारा और समृद्ध रास्ते की व्याख्या की।

एक घंटे के व्याख्यान में प्रोफेसर चांग वेइवेइ ने डेटा और उदाहरणों के माध्यम से चीन के विकास रास्ते से अवगत कराया। ई-कॉमर्स से वित्तीय विज्ञान व तकनीक तक, कृत्रिम बुद्धि से क्वांटम संचार क्षेत्र में प्रगति तक, चीन में “चौथी औद्योगिक क्रांति” को जन्म दिया जा रहा है। प्रोफेसर चांग के विचार में चीनियों ने खुद का सफल विकास रास्ता अपनाया है। उन्होंने राजनीतिक, आर्थिक और सामाजिक दृष्टिकोण से “चीन का नमूना” और “बेल्ट एंड रोड” पहल की विस्तृत जानकारी दी और बल देते हुए कहा कि चीनी कम्युनिस्ट पार्टी ने चीन में तेज़ गति की आर्थिक उत्थान में कुंजीभूत भूमिका निभाई है।

चीनी और ब्रिटिश विद्वान दर्शकों के साथ इंटरएक्टिव करते हुए

इस गतिविधि में ऑक्सफोर्ड विश्वविद्यालय के चीनी केंद्र के प्रधान राणा मित्तर और कैम्ब्रिज विश्वविद्यालय के वरिष्ठ अनुसंधानकर्ता मार्टिन जैक्स ने भी भाग लिया। चीन और ब्रिटेन के तीनों विद्वानों ने अपनी-अपनी दृष्टि से विश्लेषण और व्याख्या की। इंटरएक्टिव भाग में तीनों प्रोफेसरों ने दर्शकों के सवालों का जवाब दिया। मित्तर ने कहा कि“बेल्ट एंड रोड”से पाकिस्तान और इथियोपिया आदि देशों को लाभ मिला है। पहले इन विकासशील देशों को दूसरे स्थलों से कोई फायदा नहीं मिलता था। वहीं, जैक्स ने कहा कि पश्चिमी देशों को चीन के बारे में ज्यादा जानकारी लेनी चाहिए। वर्तमान अंतरराष्ट्रीय परिस्थिति में “बेल्ट एंड रोड” पहल और संबंधित परियोजनाओं के कार्यान्वयन से अंतरराष्ट्रीय सहयोग की मजबूती के लिए ज्यादा मददगार सिद्ध होगा।

(श्याओ थांग)