हिन्दी
返回

लेख

首页

A+ A A-

返回

गांव वालों द्वारा अभिनय चलाया गया नाट्य "राजकुमारी वेनछंग"

2019-10-08 15:32:00

राजकुमारी वेनछंग थांग राजवंश के समय महाराजा की एक पुत्री थी। ईसा सन 641 में थांग राजवंश के महाराजा थाईजूंग के आदेश के मुताबिक राजकुमारी को तिब्बती राजा सॉन्गज़न गैंबू से शादी करवाने के लिए तिब्बत भेजा। इस के बाद थांग राजवंश और तिब्बती राज्य के बीच दो सौ साल तक मैत्रीपूर्ण संबंध कायम किये गये। राजकुमारी वेनछंग और उन के दल थांग राजवंश की तत्कालीन राजधानी छांगआन नगर से रवाना होकर छींगहाई के जरिये ल्हासा नगर तक जा पहुंचे। तिब्बती राजा सॉन्गज़न गैंबू ने अपने मंत्रियों के साथ-साथ रास्ते में राजकुमारी वेनछंग की अगवानी करने के लिए छींगहाई गये। भव्य रस्म आयोजित होने के बाद राजकुमारी वेनछंग तिब्बती राजा की रानी बनी।

राजकुमारी वेनछंग के दहेज में बुद्ध की मूर्ति और ग्रंथ, भिन्न भिन्न खजाने, क्लासिक बुक, सभी प्रकार के सोने या जेड के आभूषण और कपड़े, खाना बनाने के बारे में किताबें, पेय पदार्थ, रंगबिरंगे पैटर्न्स की सजावट वाले रेशम, वास्तुकला और तकनीकी कार्य के बारे में पुस्तकें, अटकल ग्रंथ, मेडिकल ग्रंथ और चिकित्सा उपकरण और अनेक फसल बीज आदि शामिल हुए। राजकुमारी वेनछंग के साथ शादी करने से तिब्बत राज्य और थांग राजवंश के बीच सांस्कृतिक आदान प्रदान को आगे गहरायाय गया और तिब्बती राज्य कि रीति-रिवाज को भी बहुत बदला गया। उदाहरण के लिए तिब्बती राजा सॉन्गज़न गैंबू ने खुद भी थांग राजवंश की रीति-रिवाज सीखकर रेशम के कपड़े पहनना शुरू किया, और थांग राजवंश में अध्ययन करवाने के लिए कुलिन परिवार के बच्चों को भेजा था। तिब्बती राजा ने थांग राजवंश के महाराजा को पत्र लिख कर बधाई दी और उपहार के रूप में सोने का एक हंस भेज दिया।

तिब्बती राजा सॉन्गज़न गैंबू और राजकुमारी वेनछंग की शादी से दोनों पक्षों के बीच सांस्कृतिक आदान प्रदान और राजनीतिक मैत्री का नया युग खोला गया था। तिब्बती राजा ने राजकुमारी वेनछंग के लिए विश्व मशहूर पोताला पैलेस का निर्माण किया। जिसमें एक हजार कमरे थे। पोताला पैलेस की भित्ति चित्र में तिब्बती राजा और राजकुमारी वेनछंग की शादी का खूब वर्णन भी हुआ। और इस विशाल महल में तिब्बती राजा सॉन्गज़न गैंबू और राजकुमारी वेनछंग की मूर्तियां आज भी सुरक्षित हैं।

<...2345