हिन्दी
返回

लेख

首页

A+ A A-

返回

अमेरिका के चीन के साथ द्विपक्षीय संबंध को आगे बढ़ाए- यांग च्येछी

2019-02-17 16:32:00

चीनी कम्युनिस्ट पार्टी की केंद्रीय समिति के पोलित ब्यूरो के सदस्य, चीनी केंद्रीय विदेशी मामला कार्य समिति कार्यालय के प्रधान यांग च्येछी ने 55वें म्यूनिख सुरक्षा सम्मेलन में भाषण देने के बाद चीन-अमेरिका संबंध को लेकर संवाददाता के सवालों का जवाब दिया।

उन्होंने बल देते हुए कहा कि वर्तमान विश्व में मौका और चुनौती दोनों मौजूद हैं, विश्व के विभिन्न देशों को हाथ मिलाकर सहयोग करना चाहिए। चीनी राष्ट्रपति शी चिनफिंग और अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने समन्वय, सहयोग और स्थिरता वाले चीन-अमेरिका संबंध को आगे बढ़ाने पर सहमति प्राप्त की, राष्ट्रपति ट्रम्प ने कहा कि सहयोग और रचनात्मक अमेरिका-चीन संबंध उनका प्राथमिक कार्य है। दोनों देशों के शीर्ष नेताओं के बीच संपन्न अहम आम सहमति ने भविष्य के कुछ समय में चीन-अमेरिका संबंध के विकास के लिए रास्ता दिखाया।

यांग च्येछी ने कहा कि चीन और अमेरिका के बीच हुए आर्थिक व्यापारिक मतभेद और विवाद के समाधान के लिए चीन सहयोगी तरीका अपनाना चाहता है। अवश्य है कि सैद्धांतिक सहयोग की जरूरत है। हाल में दोनों देशों के आर्थिक व्यापारिक दल परामर्श कर रहे हैं, जिसमें महत्वपूर्ण चरणबद्ध प्रगति हासिल हुई। आशा है कि दोनों पक्षों की समान कोशिश से आपसी हित और उभय जीत वाले समझौता संपन्न हो सके।

यांग च्येछी ने यह भी कहा कि चीन सरकार मानवाधिकार कार्य के संवर्धन को उच्च महत्व देती है। चीन में विभिन्न जातियों के लोग एकता से प्रयासरत हैं और चीनी लोगों के जीवन स्तर में लगातार उन्नति हुई। यह सर्वमान्य तथ्य है। चीन अमेरिका द्वारा मानवाधिकार की आड़ से चीन पर बेवजह हमले और आरोप का दृढ़ विरोध करता है।

यांग च्येछी ने कहा कि चीन और पड़ोसी देशों के बीच संबंध का जोरदार विकास हो रहा है। चीन लगभग सभी पड़ोसी देशों का सबसे बड़ा व्यापारिक साझेदार है, आपस में घनिष्ठ मानवीय आवाजाही कायम होती है। चीन दक्षिण चीन महासागर के तटीय देशों के साथ मिलकर क्षेत्रीय शांति और स्थिरता की रक्षा में जुटा हुआ है और भारत समेत संबंधित देशों के साथ क्षेत्रीय व्यापक आर्थिक साझेदारी संबंध वाली संधि को लेकर वार्ता कर रहा है। तथ्यों से जाहिर है कि बाहरी शक्ति के उत्तेजना और दोहरे मापदंड के बिना, एशिया-प्रशांत क्षेत्र में शांत होगा और विश्व ज्यादा सुरक्षा होगा।

कोरियाई प्रायद्वीप के गैर-नाभिकीकरण की चर्चा करते हुए यांग च्येछी ने कहा कि चीन इस लक्ष्य की प्राप्ति के लिए प्रयास कर रहा है, ताकि पूर्वोत्तर एशिया की शांति और स्थिरता की रक्षा की जा सके। चीन डीपीआरके (उत्तर कोरिया) और अमेरिका के बीच दूसरी शिखर वार्ता के सफल आयोजन का समर्थन करता है और उम्मीद है कि वार्ता में सक्रिय फल प्राप्त हो सकेगा।

(श्याओ थांग)